Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2017

Tumari Jagwali Raindu #Ranjeet Rawat & Kavita Chamoli

Mount Claiming पर्वतारोहण

वैसे तो पुरे हिमालय मे चलना बहुत मुश्किल होता है व हर एक कदम पर पर्वतारोही को संघर्ष के साथ  समर्पंण का परिचय देना होता है चरा सी चुक आपको क्लिन बोल्ड के रुप मे सैकडों हजारों फिर गहरी अंधेरी व भयानक बर्फ की संकरी दरारों (क्रैवास) रुपी पैवेलियन मे डाल सकती है लेकिन यदि दुनिया का कोई खेल है तो वो यही साहसिक खेल है जहां आरोही कठिन से कठिन व दुर्गम से दुर्गम रास्ते को आरोहंण पथ के लिये चिह्नित कर आगे बढते हैं यही तो एक मात्र यैसा खेल है जहां पर्वतारोही स्वयं ही रैफरी स्वयं दर्शक व स्वयं ही खिलाडी का रोल अदा करता है ईस खेल मे दिल दिमाग ओर साहस के साथ साथ शारीरिक तंदरुस्त होना बी बहुत जरुरी है ईतना सब कुछ जानते हुये भी कि ना जाने कौन सा पग आखरी पग बन जाये देश दुनिया के हजारों पर्वतारोही व ट्रैकर हर साल हिमालयी यात्रा पर निकलते हैं! हमारा गडवाल हिमालय जो लगभग 325 किमी मे फैला हुवा प्रकृति की सुंदरता को समेटे हुये ऊंची ऊंची चोटियों सहित ना जाने कितने trek, pass, ओर बडे बडे बुग्यालों के लिये बैश्विक मानचित्र पर अपनी अलग ही पहिचान रखता है वैसे तो हर साल ही यहां हजारों बहारी पर्यटक पहाडों की सै…

मेरी व्यथा और चकबन्दी main aur meri vyatha

"पहाड़ राला त तेरी पछ्याण रैली
कखि भी रैली अपणु वजूद बतैली
यु पहाड़ नि राला त लोगु क्या बतैली
पहाड़ी खून छै कभी न कभी बौड़ी कन नि ऐली।"

मैं वर्तमान में दिल्ली के द्वारका उपनगरी में परिवार सहित रह रहा हूँ बचपन से ही दिल्ली में ही रहा यही बड़ा हुआ पला बढ़ा लेकिन इसके बावजूद भी दिल्ली से लगाव नही बना पाया शायद बचपन की 5   6 साल की गाँव की कुछ यादे है जिन्हें भुला नही पाया हूँ इसलिए हमेशा से ही गाँव लौट जाने की इच्छा है लेकिन परिस्थितिया साथ नही दे रही है जिसके कारण मन मार इस शहर में रह रहा हूँ।  आज हालात बेरोजगार सी है लेकिन फिर भी गाँव लौटने का मन बनाता हूँ।  लेकिन शुरुआत कहा से करू समझ नहीं पा रहा गाँव जाकर क्या करू?
कहा पर करू?  कुछ पारिवारिक समस्याएं भी है जीके कारण भी खुद को रोक लेता हूँ। कुछ करना चाहता हूँ लेकिन कर नहीं पा रहा कारण मेहनत तो मैं कर लू लेकिन मेहनत करनी क्या है कैसे है किस दिशा में करनी है राह नहीं दिख रही। दूसरा काम कुछ भी करू इन्वेस्टमेंट आवश्यक जो मेरे पास उपलब्ध नहीं।  यदि खेती भी करता हूँ गाँव लौटकर तो हल चलाना तक नहीं आता। किसी दूसरे से करवाता हूँ तो पहले तो कोई…