Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2016

चीनी मिथ ज़हर

*आरोग्यं -- चीनी एक जहर है जो अनेक रोगोँ का कारण है ।
.
चीनी बनाने की प्रक्रिया मेँ गंधक का सबसे अधिक प्रयोग होता है । गंधक माने पटाखोँ का मसाला ।
.
गंधक अत्यंत कठोर धातु है जो शरीर मेँ चला तो जाता है परंतु बाहर नहीँ निकलता
.
चीनी कॉलेस्ट्रॉल बढ़ाती है जिसके कारण हृदयघात या हार्ट अटैक आता है
.
चीनी शरीर के वजन को अनियन्त्रित कर देती है जिसके कारण मोटापा होता है
.
चीनी रक्तचाप या ब्लड प्रैशर को बढ़ाती है ।
.
चीनी ब्रेन अटैक का एक प्रमुख कारण है
.
चीनी की मिठास को आधुनिक चिकित्सा मेँ सूक्रोज़ कहते हैँ जो इंसान और जानवर दोनो पचा नहीँ पाते
.
चीनी बनाने की प्रक्रिया मेँ तेइस हानिकारक रसायनोँ का प्रयोग किया जाता है
.
चीनी डाइबिटीज़ का एक प्रमुख कारण है
.
चीनी पेट की जलन का एक प्रमुख कारण है
.
चीनी शरीर मे ट्राइ ग्लिसराइड को बढ़ाती है
.
चीनी पेरेलिसिस अटैक या लकवा होने का एक प्रमुख कारण है
.
चीनी बनाने की सबसे पहली मिल अंग्रेजोँ ने 1868 मेँ लगाई थी । उसके पहले भारतवासी शुद्ध देशी गुड़ खाते थे और कभी इस तरह से बीमार नहीँ पड़ते थे ।
.
चीनी से मिश्री पे आएँ और मिश्री से गुड़ पे आएँ. दिखावे पर …

दैणी ह्वैगी सि गिच्ची

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, जौ गिच्योल गाली दी छकैकि, जिकुड़ियुं सेली पोड़ि व्हैलि तौकि, जौकि गाल्युल बांजी कयेलि पुंगड़ी गौ की।

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, जौल निपल्टु कायी स्वारा भयो की,  आज तरसदि त व्हैलि जिकुड़ि तौकि, जौल निपल्टु कायी कतगो की।

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, यकुला पोड्या लोगु कुड़ी खौंदार कैकि, हेरणि त व्हैलि बाटू टपरांदी आँखि तौकि, कैमा लगौ आस सास अपणा सुख दुःखो की।

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, निर्जड़ी लगै जौल अपणा परयो की, फिटकार मारी घात घाली की, निर्जड़ी लगैयाली सर्या गौ गुठ्यारो की।

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, लोगु गौड़ी भैस्युं भ्यालुन्द फरकै की, आज बैठ्या छी जोगी बणी की, हौर्यु की छान्यो कण्डे कण्डे की।

आज दैणी व्हैगी सि गिच्ची, तौ देवतो घत्ये-घत्ये की, येकु बुरु हैक बुरु बुरु कै कैकि, अलोप कैयलि देवता फिटकारी की।

अब किलै छै रुणि टोप दे देकि, वैदिन धौ नि खै जरसी गाली दे दे की, अब त खुश व्हैगे व्हैलि, अपणी गाल्यु थै पनपै की।


अनोप सिंह नेगी(खुदेड़) 9716959339