Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2015

15 अगस्त 2015

आज के इस दिन की खुशिया तो मना रहे हो जरूर मनाओ लेकिन एक बार उन लोगो को जरूर याद कर लेना जिन्होंने इस दिन को बनाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।आज मेरे हिंदुस्तान में जाने कितने धर्म हो गए
क्या बीतती होगी उन आत्माओ पर जो हमारे ली सबकुछ खो गए।एक बार भी न सोचा जिन्होंने अपने बारे में
हमारे लिए वो सदा के लिए सो गए।भूखे प्यासे लड़ते रहे थे जो देश के खातिर
फिर भी अपना सारा लहू वो बहा गए।आज भी आत्मा उनकी अमर है
देश को जो आज़ाद करा गए।एक बार उनको याद जरूर करना मेरे देश वासियो
आज़ादी हमें जो दिला गए।आज हम उनको याद जरूर करेंगे मेरे दोस्तों
आज के बदलते माहौल में जिन्हें हम भूल गए।अनोप सिंह नेगी(खुदेड़)
9716959339
facebook
Twitter
Youtube

क्या काम की

वा संस्कृति क्या काम की
जो इंसान की काम नि आई सको संस्कृति बचाण से क्या फ़ायदा जब
इंसान मी बचै नि सकदु एक भाई रूणु च अर
मी हैसणा की बात करदु इनी हैंसी कु क्या फ़ायदा
जु कैकि रोयी नि बुथ्याई सको इन जवानी कु क्या फ़ायदा
बुज़ुर्ग कु बोझ उठै न सकोइन आँखों कु क्या फ़ायदा
जु बाटू कै थै दिखै न सको इन जुबान कु क्या फ़ायदा
जु कभी कैका वास्ता बोली नि सकोइनी नींद कु क्या फ़ायदा
जु सुपन्या कै थै दिखै न सको वू कंधो कु क्या फ़ायदा
सहारा कैका जो बणी नि सको इनी मोरणा कु क्या फ़ायदा
जीवन भर जु कैका काम नि आ सको इनी संस्कृति थै बचाण से क्या फ़ायदा
इंसान थै जो बचै नि सको अनोप सिंह नेगी(खुदेड़)
9716959339फेसबुकट्विटर