Facebook

Bal Mithai बाल मिठाई

अल्मोड़ा की बाल मिठाई

नमस्कार दोस्तो आज मैं आपको बताने वाला हूं आपकी पसन्दीदा मिठाई के बारे में जिसकी रेसिपी बहुत पुरानी है और इसका इतिहास उत्तराखण्ड से जुड़ा है। अब आप समझ ही गये होंगे कि मैं किस मिठाई की बात कर रहा हूं।
दोस्तो इस मिठाई का नाम है बाल मिठाई! जैसा इसका नाम है ऐसे ही इसके गुण भी है, बच्चो की बहुत ही पसन्दीदा मिठाई है बाल मिठाई। यह मीठा सबसे पहले उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिला में एक हलवाई थे जोगा लाल शाह जी जिन्होंने सबसे पहले बाल मिठाई बनाई। यह मिठाई पहले स्कूल के बच्चों को खूब पसंद आयी और धीरे-धीरे पूरे अल्मोड़ा से होते हुए पूरे राज्य में जानी जाने लगी और अन्य गांवों शहरो में भी बनाई जाने लगी। काफी लोग यह जानते है कि खीम सिंह मोहन सिंह रौतेला ने इसकी शुरुआत की थी लेकिन इनके द्वारा पूरे उत्तराखण्ड में जाना जाने लगा। इसमे चॉकलेट की तरह दिखने वाला पार्ट चॉकलेट नही बल्कि मावा और चीनी से यह चॉकलेट तैयार किया जाता है।
आइये जानते है बाल मिठाई बनाने की विधि।

बाल मिठाई बनाने में उपयोग होने वाली सामग्री

खोया/मेवा        1.5kg
पिसी हुई चीनी   1/2 kg
चीनी                1/2 kg
दूध                  1/2 कप
टेट्रिक एसिड     10 ग्राम
खस खस          50 ग्राम
पानी                1 लीटर
घी                   1 चमच

बनाने की विधि

सबसे पहले हम एक बैटन लेंगे खुले मुह का इसे चीनी में टेट्रिक एसिड मिलाकर उबालेंगे। जैसे ही चीनी घुल जाएगी इसमे दूध डाले, दूध डालने पर इसमे झाग बनेगा इसमे से कुछ खराब झाग भी आएगा इसे हटा लें। इस चासनी को तब तक पकाना है जब तक कि यह एक तार की तरह न खिंचे। अब इसमें से आप आधी चासनी अलग कर ले और बची हुई चासनी में मावा/खोया और पिसी हुई चीनी डालकर धीमी आंच पर टैब तक भूने जब तक इसका रंग चॉकलेट के समान न हो जाये। अब यह मिश्रण गाढ़ा हो जाएगा, इसके पश्चात आप इस मिश्रण को एक खुले बर्तन में घी लगाकर इस बर्तन में निकाल ले और इसमें फैला दें। और ठंडा होने पर इसे अपनी इच्छानुसार आप काट सकते है जो भी आकर आप देना चाहे।
अब हमने जो चासनी अलग रखी थी उसे ले और गर्म कर ले और इसमें खस खस मिला ले, जब यह चासनी खस खस से अच्छी तरह से मिल जाये तो इसे एक प्लेट में निकाले और आपने जो चॉकलेट के पीस काटकर रखे थे उन्हें इस खस खस के बॉल में रोल करे।
तैयार है आपकी बाल मिठाई।
दोस्तो अक्सर सभी लोग यह सोचते है कि बाल मिठाई में रेडीमेड या चॉकलेट पाउडर का प्रयोग होता है किंतु ऐसा बिल्कुल नही है। बाल मिठाई में कुछ भी रेडीमेड नही होता है सभी कुछ एक साथ ही तैयार किया जाता है।
आशा है आप समझ गए होंगे कि बाल मिठाई कैसे बनती है, क्या क्या इसमे उपयोग किया जाता है। यदि आपको जानकारी पसंद आयी हो तो अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दीजियेगा और यदि किसी कारणवश पसंद न आया हो तो तब तो आपकी प्रतिक्रिया और भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।
दोस्तो अगले अंक में भी इसी प्रकार कुछ नया आपके सामने लाने का प्रयास करूंगा। फेसबुक के माध्यम से और व्हाट्सअप के माध्यम से आपकी प्रतिक्रियाएं निरन्तर मिलती रहती है, इसके लिए मैं आपका आभारी हूं। मेरे कुछ व्हाट्सअप मित्रो और परिचितों की जानने की उत्सुकता ने मुझे यह लेख लिखने का अवसर दिया।
दोस्तो यदि आपके मन मे भी यदि किसी अन्य वनस्पति के बारे में जानने की इच्छा हो तो आप मुझे कमेंट, व्हाट्सअप, ईमेल आदि माध्यमो से बता सकते है मैं कोशिश करूंगा कि मैं किसी प्रकार आपको इस बारे में जानकारी दे पाऊ। बहुत सी वनस्पति के बारे में शायद मुझे कुछ पता न हो लेकिन फिर भी किसी तरह जानकारी जुटाकर आप तक इस बारे में आपको बताने का प्रयास करूंगा।

कुछ पुराने वानस्पतिक लेख

भीमल                      बुराँश शर्बत             कंडली
कुणजु/ नागदाना        लिंगुड़ा                   हिंसर
किलमोड़ा                  घिंगरु                    टिमरू भमोरा                      डैकण/डकैन              तिमला                      मालू                    रागी/मंडुआ

अनोप सिंह नेगी(खुदेड़)
9716959339

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां