Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2015

भद्रेश्वर महादेव Bhadreshwar Mahadev

भद्रेश्वर महादेव नमस्कार दोस्तों आज आपको ले चलते है, नंदा देवी पर्वत की ओर जहा बसते है भद्रेश्वर महादेव तो चलिए चलते है आज एक नई दिशा की ओर।
      उत्तराखण्ड (Uttarakhand) में इस सिद्धपीठ भद्रेश्वर शिवलिंग केजलाभिषेक से पुत्र दाई प्रत्यक्ष प्रमाण सदियों से प्रचलित है।       इस स्थान के पूर्व में आसमान को छूते नंदादेवी पर्वत, जिसे पार्वती जी का स्वरुप भी कहा जाता है, दिखाई देता है। कहा जाता है कि बड़ागाँव ग्राम में किसी व्यक्ति के पास कपिला गाय थी, कपिला गाय ने जब पहली बार एक बछड़े को जन्म दिया और ११(ग्यारह) दिनों तक प्रयाप्त दूध देकर अपने मालिक को प्रसन्न करती रही। परन्तु बारहवें दिन से गाय ने सायंकाल से दूध देना बंद कर दिया।  मालिक को शक हुआ कि कोई अन्य व्यक्ति गाय का दूध दूह लेता है, मालिक गाय पर नज़र रखने लगा और हमेशा की तरह गाय चराने वन ले गया अचानक उसकी नज़र गाय पर पड़ी उसने देखा गाय भद्रेश्वर महादेव के लिंग पर खड़ी होकर भगवान आशुतोष का अभिषेक कर रही है। जैसे ही वह शिवलिंग तोड़ने को तैयार हुआ तभी एक आवाज़ आई “अपनी गाय को खूंटे से बाँधो” तभी से गायों को खूंटे से बाँधने का प्रचलन शुरू हुआ।�…