Skip to main content

विजया पंत तुली

दोस्तों आज बहुत दिनों बाद किसी के बारे में लिखने का मन हुआ आज मैं ऐसी शख्सियत के बारे में लिख रहा हूँ जिनका आज जन्मदिन है।
लगभग तीन वर्ष पूर्व मैं मैं इन महान व्यक्तित्व से जुड़ा जिनका नाम है पर्वतारोही विजया पंत तुली फिर समय बीतता गया और मैं इनके बारे में जानने लगा। इतना पता था कि आप एक पर्वतारोही है लेकिन इतनी खास भी है ये पता न था। जब आपके बारे में पढ़ना शुरू किया सोशल साईट से जानकारी मिलने लगी तब मालुम हुआ की विजया जी एक ऐसी पर्वतारोही है जिन्होंने यहाँ तक पहुचने के सोची भी नहीं थी लेकिन आज एक सफल पर्वतारोही है।
अपने कॉलेज जीवन में आप स्पोर्ट्स चैंपियन भी रही हैं। यही से आपके जीवन में एक अहम मोड़ आया यही से आपको आपके पारिवारिक मित्र सुंदरलाल बहुगुणा जी ने आपको पर्वतारोहण में जाने का निमन्त्रण दिया और अपने उनके इस निमन्त्रण को स्वीकार कर उसपर खरी भी उतरी। उन्होंने ही आपके माता पिता को भी इसके लिए मनाया और आप लग गयी अपने सपनो को साकार करने में। आप उन्ही महान पर्वतारोही के सानिध्य में रही जिन्होंने भारत को महिला पर्वतारोही के रूप में पहचान दिलाई जिन्हें देश का हर नागरिक बखूबी जानता है। मैं बात कर रहा हूँ श्रीमती बछेन्द्री पाल जी की जो सर्वप्रथम एवरेस्ट पर फतेह पाने वाली पहली महिला रही।
परिवारक जीवन कुछ ऐसा था की माता पिता आपके दोनों ही शिक्षक होने के कारण दोनों ही अलग रहते थे, क्योकि उनकी पोस्टिंग अलग थी आप पिताजी के साथ ही रहती थी। आप एक साधारण किन्तु उच्च परिवार से है। आप पढाई के साथ साथ घर के कार्यो को भी करती थी।
आप उत्तरकाशी कॉलेज की पहली महिला हो जो पर्वतारोहण के लिए गयी। शुरुआत में तो आप एक शिक्षक परिवार से होने के कारण एक शिक्षक ही बनना चाहती थी, किन्तु आप पहाड़ो को भी नाप लेना चाहती थी तो आप पूर्ण रूप से ट्रैकिंग पर ही समर्पित हो गयी।
इसके लिए आप नए कई तरह के प्रशिक्षण प्राप्त किये।
उत्तरकाशी के नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग से प्राथमिक प्रशिक्षण ट्रेकिंग व पर्वतारोहण में लिया, इसी क्षेत्र में आपने एक एडवांस कोर्स भी इसी संस्थान से किया, जम्मू और कश्मीर के गुलमर्ग के स्कीईंग संस्थान से स्कीईंग का प्रशिक्षण प्राप्त किया, ततपश्चात गढवाल विश्वविद्यालय से स्काउट गाइड का कोर्स किया, एस एस बी राइफल्स शूटिंग ट्रेनिंग भी ली, मेरठ नेशनल एडवेंचर फाउडेंशन से एडवेंचर कोर्स किया।
आपका उत्तराखण्ड के इतिहास में यह एक महत्वपूर्ण योगदान था कि एक महिला होने के बावजूद आपने पर्वतरोहण जैसे क्षेत्र को चुना और इसे घर घर तक पहुचाया।
जब आप और बछेन्द्री पाल जी इंस्ट्रक्टर बन  एनआईएम पहुचे, तो वहां नेशनल एडवेंचर फाउडेंशन के डायरेक्टर ब्रिगेडियर ज्ञान सिंह जी के आश्वाशन पर आप लोगो ने ही भागीरथी -सेवन सिस्टर्स एडवेंचर क्लब की शुरुआत की। आप लोगो की यह योजना प्रशिक्षित लड़कियो और महिलाओं की आर्थिक चिंताओ का ध्यान रखते हुए बनायीं गयी थी।
आप सात लड़किया चंद्रप्रभा ऐत्वाल, बछेंद्री पाल, आप(विजया पंत), आशा पंत, अनिता रेखी , उमा भट्ट और उत्तरा पंत हम सात लडकियां इस क्लब की कार्यकर्ता थीं।
शादी की बात की जाए तो शायद ही इतनी साधारण तरीके से किसी की शादी हुयी हो, मात्र दो अंगुठियो से आपकी शादी हुयी देहरादून के आर्य समाज मंदिर में। क्योकि आपका संकल्प था की दहेज़ नही देंगे। उस समय में जब बाहर शादी करने की सोच भी नही सकते थे तब आपने एक अन्य समाज में शादी की। शादी जिनसे हुयी कभी टाटा ग्रुप आपके पास एडवेंचर प्रशिक्षण हेतु आया था, उसी ग्रुप में आपकी मुलाकात मिस्टर तुली जी से हुयी जिन्होंने आपसे शादी के लिए अपनी इच्छा जाहिर की। आप ने जवाब में हां या न तो नही कहा लेकिन सारी बात माता-पिता के फैसले पर छोड़ दी। बछेन्द्री पाल जी व भाई बहनो के प्रयास से आप दोनों के परिवार शादी के लिए तैयार भी हो गए।
देशभर में लड़कियों के साथ मिलकर आपने सिग्नेचर कैंपेन चलाया था कि कोई भी दहेज नहीं देंगे। और ऐसा हुआ भी जो आपने स्वयं भी कर दिखाया।
आपकी सफलताएं:-
सबसे बडी सफलता रूद्र गेरा पीक के पास 21,300 मीटर ऊंचाई पर पहुँचने के रूप मे 1999 में मिली।
ठीक एक वर्ष बाद ही केदार डोम मे 22,400 मीटर की ऊंचाई पर पहुँचकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया।
आखिरी पर्वतारोहण लगभग 20,000 फीट तक की ऊंचाई पर जाना था।
1982 मे गंगोत्री से बद्रीनाथ तक कलिंदी पास होते हुए अपनी ट्रेकिंग पूरी की।
1985 में टिस्को ग्रेज्युएट ट्रेनीज के साथ उत्तरकाशी से केदारनाथ तक ट्रेकिंग की।
आपकी उपलब्धियाँ
1983 से 1985 तक सेवन सिस्टर्स क्लब की सचिव रहीं।
यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में बछेंद्री पाल और आपके बारे में भी पढाया जाता है।
रेडियो और टीवी पर कई प्रस्तुतियां दी।
वेस्ट बंगाल के हल्दिया पोर्ट के चर्च स्कूल में क्रीडा शिक्षिका के रूप मे काम किया।
1996 से 2001 तक उड़ीसा में पारादीप पोर्ट मे एढोक पर हिंदी शिक्षिका के रूप मे अध्यापन कार्य किया।
स्कूल व विश्वविद्यालय स्तर पर सामाजिक कार्यो के लिए अखिल भारतीय छात्र संघ द्वारा सम्मानित।
बतौर एथलीट कई पुरस्कार प्राप्त किए।
1994 मे मुम्बई व पुणे के एडवेंचर क्लब के साथ रॉक क्लाइंबिंग कार्यक्रम तैयार किया।
1982 से 1985 में इसी तरह का कार्यक्रम ओएनजीसी के बच्चों व कर्मचारियों के साथ भी चलाया।
इन संस्थानों में गेस्ट इंस्ट्रक्टर के रूप मे काम किया।
अनोप सिंह नेगी(खुदेड़)
9716959339
www.khudeddandikanthi.in

Comments

Popular posts from this blog

Kangni kauni कंगनी कौणी

कंगनी, काकनी, कौणी Foxtail मिलेटएक ऐसी फसल जो लगभग धरती से समाप्त हो चुकी है यदि इसके प्रति हम लोगो मे जागरूकता होती, तो शायद आज इसकी ऐसी हालत देखने को नही मिलती। यू तो हम पेट भरने के लिए स्वाद के लिए मार्किट में उपलब्ध कई खाद्य पदार्थो को खाते है। यदि मार्किट में कुछ नया आता है तो उसे एक बार जरूर ट्राय करते है। लेकिन ऐसी पौष्टिक खानपान की वस्तुओं को अक्सर शक की नजरों से देखते है कि पता नही इसके कोई साइड इफ़ेक्ट न हो कुछ गलत न हो जाये। लेकिन यदि यही चीज़ यदि मार्किट में इसकी साधारण अवस्था के बदले किसी आकर्षक पैकेट में बंद मील उसपर एक्सपायरी लिखी हो चाहे वो दुबारा रिपैक ही क्यों न कि गयी हो, उसके पौष्टिक गुणों को निकालकर क्यो न हमारे आगे परोसा जाए हम बहुत जल्द उसपर भरोसा कर लेते है। इसका उदाहरण होर्लिक्स जैसे चीजे है, जिसमे मूंगफली से उसके सारे पौष्टिक गुण निकालकर उसकी खली हमारे बीच खूब परोसी जाती है। यदि मूंगफली सीधे खाने को बोला जाए और कोई सड़क किनारे बेच रहा हो तो हम उसे शक भरी निगाहों से देखते है कि पता नही ठीक है या नही है, ऐसे बहुत से विचार मन मे उठते है। चलिए अब बात करते है आज की ऐ…

Timru Timur Zanthoxylum Alatum टिमरू

टिमरू/ टिमुर Zanthoxylum Alatumनमस्कार दोस्तो सबसे पहले कल के लेख में हुई गलती के लिए क्षमा चाहता हूँ उस लेख में मैंने मालू के अंग्रेजी नाम को ZanthoxylumAlatumलिखा था। और दूसरा उसकी कीमत मैने जो बताई थी वो कीमत टिमरू के फल की है। क्योकि कल मैं एक लेख खत्म कर चुका था और दूसरा लिख रहा था गलती से मैंने इसे वहां लिख दिया यहाँ लिखने की बजाय।
आशा करता हूं आप मेरी इस गलती को माफ करेंगे। अब आज टिमरू की ही बात मैं इस लेख में कर रहा हूं, आइए जानते है टिमरू के क्या उपयोग है और ये कहा कहा पाया जाता है। टिमरू बहुत कम लोग इसे जानते होंगे किन्तु जो पहाड़ो से संबंध रखते है वो इसके बारे में जरूर जानते होंगे। यह एक झाड़ीदार कांटेदार पौधा है जिसका अध्यात्म और अषधियो में उपयोग होता है। जो नही जानते तो वो भी इसे जान लेंगे यदि आपने गांव में कोई शादी अटेंड की होगी तो अब जान जाएंगे। दूल्हे को हल्दी लगाने, नहाने और आरती उतारने के बाद उसे पीले कपड़ो में भिक्षा मांगने को भेजा जाता है, एक झोली और एक लकड़ी का डंडा उसके पास होता है ये वही लकड़ी का डंडा होता है जिसके बारे में अभी हम जानेंगे। इसका उपयोग इतने तक ही सीमि…

Fingr Millet Raagi mandua मंडुआ

मंडुआ/ रागी Fingr milletनमस्कार दोस्तों मेरे पास वनस्पतियों पर काफी लेख है किन्तु कुछ मित्रो के आग्रह परआज मैं बात करने वाला हूँ एक बहुत ही फायदे वाले ओषधीय गुणों से भरपूर अनाज कि। इसे मधुमेह के इलाज़ के लिए रामबाण माना जाता है और इसकी पुष्टि विज्ञान भी कर चुका है। मधुमेह(शुगर) के रोग से ग्रस्त लोगो के लिए आज के समय में इसके आटे से निर्मित बिस्कुट भी मार्किट में उपलब्ध है। तो चलिए दोस्तों अब बात करते है इस अनाज के बारे में। 
दोस्तों आज बात कर रहा हूँ मैं मंडुआ/रागी की। यूं तो मंडुआ विलुप्त होने लगा है लेकिन बीमारियो के इलाज़ के लिए इसकी मार्किट में मांग बढ़ने के कारण एक बार फिर से अस्तित्व में आने लगा है। इसकी मांग न सिर्फ भारत में बल्कि भारत से बाहर भी काफी मात्रा में है। मंडुआ आज की फसल नहीं है यह तो आज से लगभग 3000 ईसा पूर्व की फसल है। इसे हम सिर्फ अनाज के रूप में ही नहीं बल्कि औषधि के रूप में भी जानते है, और जो नहीं जानते है अब इसे पढ़ने के बाद वो भी जान जायेंगे। यदि इस अनाज को रोजगार से जोड़कर देखा जाये तो काफी बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे। आगे आप आगे पढ़ेंगे इसके महत्व इसे पोषक तत्व …